Category Archives: हमर विवाह

>हमर विआह-11

> गप भेलाह के बाद बाबूजी त किछ शांत भेलाह मुदा मां के बेचैनी कम नहि भेलन्हि. मां बेर-बेर बाबूजी के कहैत रहलीह जे अहां त एकरा एकदम हल्का सं लेने छिएन्हि. एकरा कनि सीरियस भ सोचिऔं. कनिओ ध्यान नहि … Continue reading

Posted in कथा-पिहानी, दर्द-हमदर्द, मैथिली, हमर विवाह, Dil Ke Baat | 2 Comments

हमर विआह-11

गप भेलाह के बाद बाबूजी त किछ शांत भेलाह मुदा मां के बेचैनी कम नहि भेलन्हि. मां बेर-बेर बाबूजी के कहैत रहलीह जे अहां त एकरा एकदम हल्का सं लेने छिएन्हि. एकरा कनि सीरियस भ सोचिऔं. कनिओ ध्यान नहि द … Continue reading

Posted in कथा-पिहानी, दर्द-हमदर्द, मैथिली, हमर विवाह, Dil Ke Baat | 2 Comments

हमर विआह-10

जकर डर छल सेहे भेल. पार्टी मे आएल किछ महिला के लेल त जेना मुंह मांगल मुराद मिल गेल होए. गाम-घर के माए-बहिन के जखन शहरक कोनो मसाला मिलि जाए छनि त ओ ओकरा चटकार लsलsक सुनाबए छथीह. कानाफूसी शुरू … Continue reading

Posted in कथा-पिहानी, दर्द-हमदर्द, मिथिला- मैथिली, हमर विवाह, Dil Ke Baat | 7 Comments

>हमर विआह-10

> जकर डर छल सेहे भेल. पार्टी मे आएल किछ महिला के लेल त जेना मुंह मांगल मुराद मिल गेल होए. गाम-घर के माए-बहिन के जखन शहरक कोनो मसाला मिलि जाए छनि त ओ ओकरा चटकार लsलsक सुनाबए छथीह. कानाफूसी … Continue reading

Posted in कथा-पिहानी, दर्द-हमदर्द, मिथिला- मैथिली, हमर विवाह, Dil Ke Baat | 7 Comments

हमर विआह- 8

श्वेताक जन्मदिन पार्टी सं डेरा त आबि गेलौं मुदा आब ध्यान श्वेता सं हटि क अल्का पर अटैकि गेल. एकदम सं फ्लैशबैक मे चलि गेलहुं. कॉलेजक दिन याद आबि गेल. बारहवीं के बाद कॉलेजक पहिल दिन. आओर ई पहिल दिन … Continue reading

Posted in कथा-पिहानी, दर्द-हमदर्द, मिथिला- मैथिली, हमर विवाह, Dil Ke Baat | 15 Comments

>हमर विआह- 8

> श्वेताक जन्मदिन पार्टी सं डेरा त आबि गेलौं मुदा आब ध्यान श्वेता सं हटि क अल्का पर अटैकि गेल. एकदम सं फ्लैशबैक मे चलि गेलहुं. कॉलेजक दिन याद आबि गेल. बारहवीं के बाद कॉलेजक पहिल दिन. आओर ई पहिल … Continue reading

Posted in कथा-पिहानी, दर्द-हमदर्द, मिथिला- मैथिली, हमर विवाह, Dil Ke Baat | 12 Comments

हमर विआह -7

पार्टी मे मौजूद सभ लोक एक दोसरा के मुंह ताकए लागलखिन्ह. हुनका सभ के किछ फुराए नहि छलन्हि कि ई कि भ रहल अछि. खुसुर-पुसुर शुरू भ गेल. कहां त हवा लागल छल जे श्वेताक लेल ई लड़का देखल जा … Continue reading

Posted in कथा, कथा-पिहानी, दर्द-हमदर्द, हमर विवाह, Dil Ke Baat

>हमर विआह -7

> पार्टी मे मौजूद सभ लोक एक दोसरा के मुंह ताकए लागलखिन्ह. हुनका सभ के किछ फुराए नहि छलन्हि कि ई कि भ रहल अछि. खुसुर-पुसुर शुरू भ गेल. कहां त हवा लागल छल जे श्वेताक लेल ई लड़का देखल … Continue reading

Posted in कथा, कथा-पिहानी, दर्द-हमदर्द, हमर विवाह, Dil Ke Baat | Leave a comment

हमर विआह-6

श्वेता हिनका सं मिलु… अपन दरभंगे के छथीन्ह… ई कहि राजीव जी विस्तार सं हमर परिचय देबय लागलखिन्ह. हम दूनु हाथ जोड़ि नमस्कार करि हुनका जन्मदिनक शुभकामना द अपना संग लाएल गिफ्ट हुनका थमा देलिएन्हि. राजीव जी हमरा दूनु के … Continue reading

Posted in कथा, कथा-पिहानी, दर्द-हमदर्द, मिथिला, मैथिली, हमर विवाह | 5 Comments

>हमर विआह-6

> श्वेता हिनका सं मिलु… अपन दरभंगे के छथीन्ह… ई कहि राजीव जी विस्तार सं हमर परिचय देबय लागलखिन्ह. हम दूनु हाथ जोड़ि नमस्कार करि हुनका जन्मदिनक शुभकामना द अपना संग लाएल गिफ्ट हुनका थमा देलिएन्हि. राजीव जी हमरा दूनु … Continue reading

Posted in कथा, कथा-पिहानी, दर्द-हमदर्द, मिथिला, मैथिली, हमर विवाह | 4 Comments