Category Archives: कुसुम ठाकुर

>मैथिली विरोधी !!

>   बिहारक चुनाव जँ जँ लग आयल जा रहल अछि सरगर्मी बढी रहल अछि ……कथिक सरगर्मी से तs हम आ समूचा देशक लोक बूझि रहल छथि. नेतागण आरोप प्रत्यारोप एक दोसर पर तेना लगा रहल छथि जेना आशीर्वाद  हो . लेखा जोखा भs रहल … Continue reading

Posted in कुसुम ठाकुर, बिहार चुनाव, मिथिला- मैथिली, Maithili, Mithila | 1 Comment

मैथिली विरोधी !!

  बिहारक चुनाव जँ जँ लग आयल जा रहल अछि सरगर्मी बढी रहल अछि ……कथिक सरगर्मी से तs हम आ समूचा देशक लोक बूझि रहल छथि. नेतागण आरोप प्रत्यारोप एक दोसर पर तेना लगा रहल छथि जेना आशीर्वाद  हो . लेखा जोखा भs रहल अछि … Continue reading

Posted in कुसुम ठाकुर, बिहार चुनाव, मिथिला- मैथिली, Maithili, Mithila | 1 Comment

>मिथिला राज्य कतेक सार्थक !!

> -कुसुम ठाकुर – ओना तs हमर स्वभाव अछि हम नहि लोक के उपदेश दैत छियैक आ नहि अपन मोनक भावना लोकक सोझां में प्रकट होमय दैत छियैक । हम सुनय सबकेर छियैक मुदा हमरा मोन में जे ठीक बुझाइत अछि … Continue reading

Posted in कुसुम ठाकुर, बिहार, मिथिला, राज्य | 1 Comment

मिथिला राज्य कतेक सार्थक !!

-कुसुम ठाकुर – ओना तs हमर स्वभाव अछि हम नहि लोक के उपदेश दैत छियैक आ नहि अपन मोनक भावना लोकक सोझां में प्रकट होमय दैत छियैक । हम सुनय सबकेर छियैक मुदा हमरा मोन में जे ठीक बुझाइत अछि ओतबा … Continue reading

Posted in कुसुम ठाकुर, बिहार, मिथिला, राज्य | 1 Comment

>अभिलाषा

> “अभिलाषा” – कुसुम ठाकुर – अभिलाषा छलs हमर एक , करितौंह हम धिया सँ स्नेह । हुनक नखरा पूरा करय मे , रहितौंह हम तत्पर सदिखन । सोचैत छलहुँ हम दिन राति , की परिछ्ब जमाय लगायब सचार । … Continue reading

Posted in कथा-पिहानी, कुसुम ठाकुर, मिथिला- मैथिली | Leave a comment

अभिलाषा

“अभिलाषा” – कुसुम ठाकुर – अभिलाषा छलs हमर एक , करितौंह हम धिया सँ स्नेह । हुनक नखरा पूरा करय मे , रहितौंह हम तत्पर सदिखन । सोचैत छलहुँ हम दिन राति , की परिछ्ब जमाय लगायब सचार । धीया … Continue reading

Posted in कथा-पिहानी, कुसुम ठाकुर, मिथिला- मैथिली