Category Archives: कथा

>नीक लोक

> नीक लोक ओ जे रहैत अछि इमानदार बेइमानी जखन धरि रहैत अछि नुकाएल नीक लोक ओ जे रहैत अछि सत्यवादी पकड़ल नहि जाइत छैक जखन धरि झूठ नीक लोक ओ जे रहैत अछि संस्कारी जखन धरि आगू नहि आबैत … Continue reading

Posted in कथा, कथा-पिहानी, कविता, मैथिली, विनीत उत्पल, Maithili | 1 Comment

नीक लोक

नीक लोक ओ जे रहैत अछि इमानदार बेइमानी जखन धरि रहैत अछि नुकाएल नीक लोक ओ जे रहैत अछि सत्यवादी पकड़ल नहि जाइत छैक जखन धरि झूठ नीक लोक ओ जे रहैत अछि संस्कारी जखन धरि आगू नहि आबैत छै … Continue reading

Posted in कथा, कथा-पिहानी, कविता, मैथिली, विनीत उत्पल, Maithili | 1 Comment

>एक धूर जमीन

> एक धूर जमीनक लेल जे अहाँ चिचिया रहल छी की सोचैत छी अहाँ संगे लऽ जाएब एक धूर जमीन सँ किछु नहि होएत साल आकि हजार सालसँ जमीन ओही ठाम छैक आइ छी अहाँ काल्हि नहि रहब जे अहाँक … Continue reading

Posted in कथा, कथा-पिहानी, मैथिली, विनीत उत्पल, हेलो मिथिला, Maithili | 1 Comment

एक धूर जमीन

एक धूर जमीनक लेल जे अहाँ चिचिया रहल छी की सोचैत छी अहाँ संगे लऽ जाएब एक धूर जमीन सँ किछु नहि होएत साल आकि हजार सालसँ जमीन ओही ठाम छैक आइ छी अहाँ काल्हि नहि रहब जे अहाँक जमीन … Continue reading

Posted in कथा, कथा-पिहानी, मैथिली, विनीत उत्पल, हेलो मिथिला, Maithili | 1 Comment

गब्बर केर इंसाफ…

देश मे चारु कात हाहाकार मचल रहैत अछि. लोक महंगाई… हिंसा… लूटपाट… रिश्वत… अफसरशाही… मिलावटखोरी… अराजकता… अव्यवस्था… घोटाला आओर भ्रष्टाचार सं परेशान रहैत अछि. त्राहि-त्राहि करैत रहैत अछि. एहि संकट… दुख के कोनो हल नहि दिखय छनि. अंधेरगर्दी सं निकलय … Continue reading

Posted in कथा, कथा-पिहानी, मैथिली

>गब्बर केर इंसाफ…

> देश मे चारु कात हाहाकार मचल रहैत अछि. लोक महंगाई… हिंसा… लूटपाट… रिश्वत… अफसरशाही… मिलावटखोरी… अराजकता… अव्यवस्था… घोटाला आओर भ्रष्टाचार सं परेशान रहैत अछि. त्राहि-त्राहि करैत रहैत अछि. एहि संकट… दुख के कोनो हल नहि दिखय छनि. अंधेरगर्दी सं … Continue reading

Posted in कथा, कथा-पिहानी, मैथिली | Leave a comment

हमर विआह-9

अल्का के गेलाह बाद मिलय-बात करय के कतेक कोशिश करलौं. मुदा ओ हर बेर फोन काटि दैत रहलीह. मैसेज…एसएमएस के कोनो जवाब नहि देलीह. अहमदाबाद जाsक सेहो मिलय के कोशिश करलौं. मुदा ओ हमरा सं अतेक नाराज छलीह जे नहि … Continue reading

Posted in कथा, कथा-पिहानी, दर्द-हमदर्द, मिथिला- मैथिली, Dil Ke Baat | 4 Comments